1

आत्मविश्वास और सकरात्मक सोच से मिलती है सफलता

self confidence, success आत्मविश्वास और सकरात्मक सोच से मिलती है सफलता

आत्मविश्वास और ज्ञान की कमी के कारण हम सही जगह नहीं पहुँच पाते और समझौता कर लेते हैं। ये समझौता हमें कुछ पल की ख़ुशी ज़रूर देता हैं, पर बाद में ज़िन्दगी भर पछतावा ही होता है।हम सबके अन्दर एक महान इंसान बनने का बीज छुपा हुआ हैं, बस उसे सही देख भाल और उपजाऊ ज़मीन की ज़रूरत हैं। वो उपजाऊ ज़मीन हैं हमारी सकरात्मक सोच।

अगर हम अपनी सोच को बदल दे, तो अपनी ज़िन्दगी बदल सकते हैं। जो भी नकरात्मक सोच हमारे अन्दर हैं, उसे हमे सकरात्मक सोच में बदलना होगा।

स्वयं को कभी भी सस्ते में मत बेचिए

स्वयं को सस्ते में वो ही बेचते हैं, जिन्हें अपनी काबिलियत पर भरोसा नहीं होता। जो अपने बारे में नहीं जानते, की वो आगे क्या बन सकते हैं?

इंसान को जब तक अपनी शक्ति, अपने गुण की पहचान नहीं होती, वो खुद को सस्ते में, किसी भी काम को करने के लिए तैयार हो जाता है। आप आज जिस भी हालात में है, सिर्फ अपनी सोच की वजह से है। सोच बदलने की ज़रूरत आपने कभी महसूस ही नहीं की। सिर्फ सोच का फर्क हैं, खुद को सस्ता और महंगा बेचने वालों में।

दुनिया के सामने स्वयं को हमेशा अच्छे तरह से पेश करे

एक उदहारण लेते हैं, मार्केट में हम अक्सर फल खरीदने जाते हैं, वहां कुछ फलों की सुन्दर से पैकिंग करके दुकानदार रखता हैं, जिसे वो ऊँचे दाम पर बेचता हैं। हालाँकि दोनों फ्रूट्स की क्वालिटी में कोई फर्क नहीं होता, अंतर सिर्फ पैकेजिंग का होता है। इससे एक बात साफ़ होती हैं, जो इंसान खुद को एक बेहतर, स्मार्ट, कॉन्फिडेंट, प्रोफेशनल और टिप टॉप लुक में रखता हैं, उसे औरों से ज्यादा और अच्छी कीमत मिलती है।

आप को अपने अन्दर की सुप्त शक्तियों को जगाना है। एक सकरात्मक सोच, नए जोश, टोटल मेकओवर, और पूर्ण आताम्विश्वास के साथ फिर से कोशिश करनी है। और जब आप ऐसा कर लेंगे, तो यकिन मानिये, इस नए रूप के साथ आप अपने अन्दर एक ग़ज़ब का आत्मविश्वास अनुभव करेंगे, और अपने क्षेत्र में काम करने के लिए कम मूल्य में नहीं बिकेंगे, अपनी असली कीमत की मांग रखेंगे और उतना ही हासिल भी करेंगे।

Did you enjoy this article?
Signup today and receive free updates straight in your inbox. We will never share or sell your email address.
I agree to have my personal information transfered to MailChimp ( more information )

Shyam Shah

One Comment

  1. Sahi baat hain aatam viswas hi hamare jiwan ko susil va nirantar rakhta hai bina iskae koe Sansar susil nahi ho sakata thatha nirantar karaya mae lagae rahanae chahiae

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *