13

मदर्स डे – यानी, दुनिया की हर माँ को सम्मानित करने का दिन

मदर्स डे – दुनिया की हर माँ को सम्मानित हैं 

माँ शब्द में, प्यार और अपनेपन का एहसास है

‘माँ’ एक ऐसा शब्द जिसे बोलने मात्र से, दिल में ख़ुशी और मन में प्यार की तरंगे दौड़ने लगती है। आज मदर्स दे के पावन अवसर पर, मैं दुनिया की समस्त माँ को सत सत प्रणाम करता  हूँ। आज का ये लेख मेरी तरफ से दुनिया की हर माँ को समर्पित है।

आज इस विशेष दिन को मनाने का एकमात्र उद्देश्य यही हैं, की समाज में नारी और उसके मातृत्व को पूरी श्रद्धा के साथ सम्मानित किया जाए।

दुनिया के अलग देशो में मदर्स डे मनाने का प्रचलन है

मदर्स डे को दुनिया के हर कोने में अलग अलग तारीखों पर मनाया जाता है। भारत में मदर्स डे मई महीने के दूसरे रविवार को मनाया जाता है। भारत में मदर्स डे इस बार 12 मई को मनाया जाएगा। मदर्स डे सबसे पहले ग्रीक और रोम में मनाया गया था। इसके बाद यूके में मदर्स डे रविवार के दिन मनाया गया। बदलते ज़माने के साथ आज मदर्स डे मॉर्डन तरीके से मनाया जाने लगा है। आज मदर्स ​डे को दुनिया के लगभग 46 देशों में मनाया जाता है।

माँ से हमारा रिश्ता 9 महीने ज्यादा पुराना हैं

माँ वो हैं जिसने हम सबको जन्म दिया, माँ के बाद ही कोई रिश्ता हमसे जुड़ता हैं। माँ से हमारा रिश्ता जन्म लेने के 9 महीने पहले ही जुड़ जाता हैं। तभी तो माँ हमें औरो से 9 महीने ज्यादा जानती हैं। अगर माँ न होती तो कोई न होता।

हम सब अपनी इस ज़िन्दगी के लिए, माँ के शुक्रगुजार हैं। माँ तो माँ होती है, वो चाहे किसी की भी हो, दुनिया की हर माँ अपने जीने की वजह अपने संतान में ढूंढती है।

आज का दिन हर माँ को समर्पित और सम्मानित है

आज हर संतान अपनी माँ के प्रति सम्मान व्यक्त करें, उनके लिए अपना वक़्त निकालें, उनके साथ समय बिताये। एक माँ हमेशा अपने बच्चों की ईक्षाओं को पहले रखती है, अपनी ईक्षाओं  का उसे ध्यान ही नहीं रहता। ऐसे में हम उस माँ की किसी एक ईक्षा को पूरा करके, उन्हें प्यार और ख़ुशी दे सकते हैं।

बच्चे को जन्म देकर, एक नारी माँ बनने का सौभाग्य प्राप्त करती है

जब तक एक नारी माँ नहीं बनती वो अधूरी है, इसलिए एक माँ के लिए उसका बच्चा ही सबकुछ होता हैं। तभी तो एक माँ तमाम तरह के शारीरिक दर्द और पीड़ा से गुज़रकर बच्चें को जन्म देती है। एक नारी माँ बनकर ही सम्पूर्ण कहलाती है, माँ बनना उसके लिए बड़े ही सौभाग्य की बात है।

माँ प्यारी माँ

माँ की दुआओं के असर से अभिशाप भी वरदान बन जाता है

माँ की क्षत्र छाया में एक बच्चा खुद को सुरक्षित महसूस करता है। कितनी भी मुसीबत हो जीवन में, माँ का साथ और विश्वास हमें जीवन से लड़ने की शक्ति देता है। माँ की दुआओं में इतना असर होता हैं की वो अभिशाप को भी वरदान में बदल देती हैं। भगवान हर जगह नहीं आ सकते इसलिए उन्होंने माँ को बनाया, जो दूर रहकर भी अपनी दुआओं से हमारी रक्षा करती हैं।

खुशनसीब हैं वो जिनके पास माँ हैं

फिल्म दीवार में अमिताभ बच्चन के पास सबकुछ होते हुए भी, वो अपने भाई ऋषि कपूर से खुद को छोटा और कमज़ोर महसूस करता हैं, क्योंकि उसके साथ माँ नहीं रहती। जिसके पास माँ है वो दुनिया का सबसे खुशनसीब व्यक्ति हैं। याद रखिये, जहाँ दुनिया वाले आपसे सिर्फ ये पूछते हैं की कितना कमाते हो? वही एक माँ आपसे पूछती है की सिर्फ काम ही करोगे या कुछ खाओगे भी?

माँ की जगह इस दिल में है आश्रम में नहीं

आइये आज हम सब ये प्राण ले की हम अपनी माँ के आँख में आंसू नहीं आने देंगे कभी। कितनी भी मज़बूरी हो या किसी दवाब में आकर, माँ को किसी ओल्ड ऐज होम में नहीं भेजेंगे। जिस माँ ने हमें दुनिया में लाने के लिए अपने कोख में रखा, अपनी खून से सींचा हमारे शरीर को। आज क्यों हम उस माँ को अपने घर में नहीं रख सकते?

बचपन में हम कहते थे, माँ मेरी हैं माँ मेरी है और आज इस रिश्ते को भूल गए। आज कहते हैं माँ तेरी हैं, तू देख । दुनिया के हर रिश्ते से 9 महीने ज्यादा पुराना रिश्ता माँ से है। इस रिश्ते का ऐसे अनादर न किया जाए, एक माँ का अपमान ईश्वर का अपमान हैं। माँ की जगह हमारे दिल में हैं, किसी वृद्धा आश्रम में नहीं।

आइये इसी वादे के साथ हम सब अपनी माँ को दिल से धन्यवाद करें और उनको प्यार और सम्मान दे जो उनका हक है। क्योंकि, ऊपर जिसका अंत नहीं वो आसमां है, इस दुनिया में जिसका अंत नहीं वो माँ हैं। माँ दिवस की हार्दिक सुभेक्षा दुनिया की सभी माँ को।

 

Did you enjoy this article?
Signup today and receive free updates straight in your inbox. We will never share or sell your email address.
I agree to have my personal information transfered to MailChimp ( more information )

Shyam Shah

13 Comments

  1. Hum duniya me aate hi pahle maa bolna Sikh jaate hai,aur ye bolna hamein koi nahi sikhata, it’s naturally like Mother.Maa ki jagah koi nahi le Sakta ,kyon ki maa humse sirf baat karke Bata deti hai ki humne saare din kuch khaya h ki nahi,aur hum kabhi bimar ho jaaye to humein maa ko bataane ki zaroorat nahi padti,wo dur ho kar bhi samajh jaati hai uska beta bimar hai, it’s Naturally like mother.Maa ka connection hi kuch Aisa hai.i believe in every day, every moment is Mother’s day,Kyun ki wo dur hokar bhi hamesha hamare saath Hoti hai.Mujhe Maa ki yaad karne ke liye kisi Mother’s day ki zaroorat nahi.i like ur post Shyam.

  2. Happy Mother’s Day, I love you Maa I miss you..UmmmmmmmAh

  3. वर्तमान में माता पिता की स्थिति का उम्दा वर्णन किया है | आज हम हर रिश्ते को फ़ायदे की नज़र से देखते हैं और जब कोई रिश्ता हमे फ़ायदा नहीं देता तो उस से छुटकारा पाने में लग जाते हैं | तब बूढ़े हो चुके माता पिता के हिस्से में या तो उपेक्षा आती है या वृद्धाश्रम | मदर्स डे कोई एक दिन नहीं अपितु जरिया है आज की पीढ़ी को ये याद दिलाने का कि उनका अस्तित्व उनके माता पिता से जुड़ा है |

  4. Jaab bacha bada hota hai toe pahale uskae mukh se nikalata hai maaaa..
    Maaa…
    Birthday manatae hai anniversary manatae hai kintu mother day nahi hamae mother’s day bhibmaanana chahiyae
    Happy mother’s day…

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *