0

नए कानून से ज़्यादा, जान गँवाने का डर ज़रूरी है।

हमारे हक़ में या हमारे खिलाफ है ये बिल? मोटर यान संशोधन विधेयक 2019 के पारित होते ही देश भर में लोगो में जबर्दश्त रोष नज़र आ रहा है। लोगो को जुर्माने की रकम में हुई भरी बढ़ोतरी से परेशानी… Continue Reading

0

इस रक्षा बंधन अपनी बहन को दीजिये फाइनेंसियल गिफ्ट

is raksha bandhan financial gift for sister

क्यों ज़रूरी हैं आपकी बहन के लिए फाइनेंसियल फ्रीडम ? इस रक्षा बंधन के दिन आप अपनी प्यारी बहन को कौन सा गिफ़्ट देना चाहते हैं? आभूषण, कपडा, स्कूटी, चॉकलेट या रुपये ? अगर आप ऐसा ही कुछ सोच चुके… Continue Reading

0

जहाँ मतलब हो वहां दोस्ती नहीं होती – श्री कृष्णा (Happy Friendship Day)

Happy friendship Day

सच्ची दोस्ती में ‘मतलब’ की जगह नहीं होती एक बार सुदामा ने कृष्णा जी से पूछा की दोस्ती का असली मतलब क्या होता है? इस पर हँसते हुए श्री कृष्णा ने कहाँ जहाँ मतलब हो वहां दोस्ती कहाँ होती हैं। श्री… Continue Reading

0

किस्मत पर भारी, हिमा दास की जीत की तैयारी

भारत की उड़न परी हिमा दास अगर इंसान कुछ कर दिखाने की ठान ले तो उसे कोई रोक नहीं सकता। प्रतिकूल परिस्थितियां ही कामयाबी की सामग्री तैयार करते हैं। अगर सबकुछ अनुकूल हो तो कुछ कर दिखाने के लिए नहीं… Continue Reading

0

डॉक्टर्स की गन्दी राइटिंग वाली पर्ची

डॉक्टर्स की गन्दी राइटिंग से हो रही मौतें क्या आपने कभी सोचा है की डॉक्टर्स की लिखी प्रिस्क्रिप्शन इतनी गन्दी क्यों होती है? आप उसे नहीं समझ सकते क्योंकि अक्षर पढ़ा नहीं जाता। आखिर मेडिकल स्टोर वाला आपको उस प्रिस्क्रिप्शन… Continue Reading

0

क्यों अपने ही कर रहे हैं अपनों का कत्ल?

मज़बूरी, अन्धविश्वास या प्रतिशोध पिछले दिनों गोरखपुर में एक माँ ने अपनी 8 महीने की बच्ची की हत्या कर दी। कारन इतना था कि वो भूख से रो रही थी और माँ के पास कुछ नहीं था खिलाने के लिए।… Continue Reading

0

आर्टिकल 15, समाज को आईना दिखाने वाली फिल्म

आर्टिकल 15 जैसी फिल्मों की ज़रूरत अनुभव सिन्हा द्वारा निर्देशित आर्टिकल 15 फिल्म का विरोध किया जाना दुर्भाग्यपूर्ण है। इसका विरोध करने वाले समाज में कोई बदलाव लाना या दिखाना नहीं चाहते। संविधान, क़ानून और स्कूली किताबों में मात्र पढ़… Continue Reading

2

हम सभी बच्चों के रब हैं पिता – Happy Fathers Day

पिता उस रब के समान हैं, जो  बच्चों की पालना करते हैं  माँ बच्चें को जन्म देती हैं और पिता उस बच्चें की पालना करते हैं। माँ खाना बनाकर खिलाती हैं और पिता खाने का इंतजाम करते हैं। सच तो… Continue Reading