0

सम्मान पाना हैं तो पहले सम्मान दीजिये (Give Respect – Get Respect )

मान सम्मान, आदर सत्कार – मानवीय व्यवहार हम सब एक सम्मानित जीवन जीना चाहते हैं, हम चाहते है की लोग हमारा प्यार से आदर सत्कार करे, हमें मान सम्मान दें। लेकिन जब ऐसा नहीं होता तो हम दुखी हो जाते… Continue Reading

1

अपनी अच्छाई को कभी मत छोड़िये, बुराई के प्रभाव में

"अपनी अच्छाई को कभी मत छोडिये"

  अच्छा काम करके अच्छा महसूस होता हैं, अच्छे बनिए किसी की मदद करके, किसी के साथ अच्छा व्यवहार करके, किसी भटके हुए को रास्ता दिखाकर, जो ख़ुशी मिलती हैं, वो शब्दों में बयां नहीं हो सकती। ये सब गुण… Continue Reading

0

घर को व्यवस्थित रखकर समय बचाने के टिप्स

अपने घर को कैसे व्यवस्थित रखे और समय बचाए ? कभी आपने सोचा है, क्यों आपको ज़रूरत के वक़्त कोई ज़रूरी सामान, पेपर या चाभी नहीं मिलती ? आप उसे ढूंढने में अपना कीमती समय गंवाते है और फिर परेशान… Continue Reading

0

मुस्कराहट आपके चेहरे की असली खूबसूरती है

मुस्कराहट से आप लगते है बहुत खुबसूरत मुस्कुराओ-क्योंकि यह मनुष्य होने की पहली शर्त हैं, एक जानवर कभी नहीं मुस्कुराता। आपकी मुस्कुराहट सिर्फ आपकी तस्वीर की लाइक्स नहीं बढाती बल्कि आपके दोस्तों और चाहने वालों की संख्या भी बढाती हैं।… Continue Reading

0

क्रोध को कंजूसी से और मुस्कान को दिल खोलकर खर्च कीजिये

मुस्कान

क्रोध में गर्मी और मुस्कान में शीतलता है क्रोध एक ऐसी आग हैं जो लोगों को जलाने से पहलें, क्रोध करने वाले को जलाती हैं। क्रोध की अग्नि में सबकुछ जलकर स्वाहा हो जाता हैं, इससे बचने का एकमात्र रास्ता… Continue Reading

0

खूबसूरती देखने वाले की आँखों में होती है

खूबसूरती के मायने सबके लिए अलग अलग हैं खूबसूरती के मायने सबके लिए अलग अलग होते हैं, और इसमें सब सही होते हैं। खूबसूरती की कोई एक निश्चित परिभाषा नहीं हैं, जिसने इसे जैसे समझा अपना लिया। खूबसूरती का अस्तित्व… Continue Reading

0

उम्र तो महज़ एक नंबर हैं, ज़िन्दगी जीना एक अंदाज़ है

age is number only

आपकी उम्र आपकी सोच पर निर्भर करती है बुढ़ापा और मृत्यु जीवन के दो सबसे बड़े सत्य हैं, जिसे कोई झुठला नहीं सकता। जार्जे बर्नार्ड शॉ ने कहा था, “हमनें खेलना छोड़ दिया हैं क्योंकि हम बूढ़े हो गए हैं;… Continue Reading

0

अपने बच्चों के साथ दोस्ती करने में  ही समझदारी हैं

बच्चों के दोस्त बनिए

अपने बच्चों के अच्छें दोस्त बनिए, सिर्फ पेरेंट्स नहीं बचपन में एक बच्चे के लिए उसके माता पिता ही सबकुछ होते हैं। वो बच्चा हर छोटी से छोटी बात के लिए माँ बाप पर निर्भर रहता हैं, क्योंकि वे नासमझ… Continue Reading