2

हम सभी बच्चों के रब हैं पिता – Happy Fathers Day

पिता उस रब के समान हैं, जो  बच्चों की पालना करते हैं 

माँ बच्चें को जन्म देती हैं और पिता उस बच्चें की पालना करते हैं। माँ खाना बनाकर खिलाती हैं और पिता खाने का इंतजाम करते हैं। सच तो ये हैं की, हमारे परवरिश में माँ की तरह पिता का भी बेहद अहम् स्थान हैं। उनके बिना हम इस दुनिया का असली ज्ञान हासिल नहीं कर पाते।एक रब ऊपर हैं और एक धरती पर। हम सभी बच्चों के  रब है  पिता। एक पिता रब की तरह अपने बच्चों का ख्याल रखते हैं।

Kamyab zindagi father's day

16 जून – रविवार, दुनिया के हर पिता को समर्पित हैं – Fathers Day के रूप में। 

एक पिता को अपने बच्चों की खातिर कई तरह के किरदार निभाने होते हैं। आज हमारे पास मौका हैं एक पिता के गुणों को समझने का, उन्हें सम्मानित करने का।  

पिता अपने बच्चों के गुरु, मार्गदर्शक और दोस्त की तरह होते हैं

पिता के कंधे पर बैठकर बच्चा दुनिया को देखता हैं। पिता के बताये रास्तों पर चलकर बच्चा बड़ा बनता हैं। पिता सिर्फ बच्चें की पालना नहीं करते, वो उसे दुनियादारी का का ज्ञान अपने अनुभव से देते हैं। वो अच्छी तरह से जानते हैं की बच्चें के लिए क्या सही हैं क्या गलत? वो गलती से बचाने के लिए, हमें कभी कभी डांट भी देते हैं। पर उनकी डांट में जीवन का ज्ञान हैं, हमें ये समझना चाहिए।

पिता एक सच्चें दोस्त की तरह, हमेशा हमारे साथ खड़े रहते हैं। एक दोस्त बनकर वो हमारी परेशानी को समझते हैं और उसका निवारण करते हैं।एक दोस्त दुसरे दोस्त की भलाई के लिए, कभी कभी नाराज़ भी हो जाता हैं। पिता की नाराज़गी में हमारी भलाई का स्वार्थ छुपा होता हैं। जिसका दोस्त, ईश्वर स्वरुप पिता हो, उसे दुनिया से कोई खतरा नहीं हो सकता।

परिवार में सबसे बड़ा स्थान पिता का हैं – घर के प्रमुख के रूप में 

पिता का स्थान परिवार में सबसे बड़ा हैं, अपनी इस ज़िम्मेदारी को निभाने के लिए उन्हें कड़ा बनना पड़ता हैं। क्योंकि परिवार की जड़ अगर कमज़ोर होगी तो उसे कोई भी हिला सकता हैं। अपने परिवार की सुरक्षा के लिए, उन्हें कभी कभी कठोर फैसलें भी लेने पड़ते हैं। एक माँ के प्यार में और पिता के प्यार में अंतर दिख सकता हैं, पर उसका मकसद सिर्फ बच्चें की भलाई हैं।

पिता, अपने दुःख, दर्द और आंसुओं को नहीं बांटते किसी के साथ

एक पिता इस मामले में बहुत स्वार्थी होते हैं, वो अपनी चिंता और परेशानी को अपने तक ही रखते हैं। वो जानते हैं की उनकी परेशानी जानकार बच्चें टूट सकते हैं। वो अपने बच्चों की ख़ुशी की खातिर अपने आंसू को बाहर नहीं लाते, ताकि बच्चों की आँखों में आंसू न आये। पिता खुद से ज्यादा अपने बच्चों के दुःख और दर्द को लेकर ज्यादा चिंतित रहते हैं।

पिता का दिल नारियल की तरह हैं-बाहर से सख्त और अन्दर से नर्म

एक नारियल बाहर से सख्त और अन्दर से नर्म होता हैं। ठीक उसी तरह पिता भी बाहर से कठोर होते हैं, पर उनका दिल नर्म होता हैं। हम अगर ये समझ जाए तो, अपने पिता से कभी नाराज़ नहीं होंगे। अगर हम सिर्फ उनकी डांट और गुस्से को देखेंगे तो उनके दिल तक नहीं पहुँच पाएंगे। बाहर से सख्त होना, मतलब दुनिया के तमाम मुश्किलों से लड़ने और उसे सहने की शक्ति। 

पिता जागते हैं ताकि हम सो सकें, वो काम करते हैं ताकि हम आराम कर सके 

एक पिता की ज़िम्मेदारी कभी खत्म नहीं होती, वो रातों को जागते हैं ताकि हम चैन से सो सकें। ज़रा सी आवाज़ से हम नहीं जागते पर एक पिता जाग जाते हैं, ये देखने के लिए की सब ठीक हैं की नहीं। पिता की छत्र छाया, बच्चें के लिए सबसे सुरक्षित स्थान हैं। पिता घर के, परिवार के सुरक्षा कवच हैं, जिसे तोड़े बिना कोई अन्दर नहीं आ सकता। हम आराम से रह सके, इसलिए पापा दिन रात काम करते हैं। 

पिता की कुछ नैतिक जिम्मेदारियां भी हैं, बच्चों के प्रति  

एक बच्चें का आदर्श उसका पिता होता हैं, वो अपने पिता से बहुत कुछ जाने अनजाने में सीखता हैं। इसलिए ये एक पिता की भी ज़िम्मेदारी हैं, की वो अपने बच्चों के सामने कुछ ऐसा न करें, जिससे बच्चा गलत सीखें। मसलन झूठ बोलना, झगडा करना, गन्दी गाली देना, किसी का अपमान करना, शराब या धुम्रपान करना आदि। वो पहले खुद में वो गुण भरे, जो वो अपने बच्चों में देखना चाहते हैं। एक बच्चा अपने पिता के नक़्शे कदम पर चलकर ही खुद को तैयार करता हैं। 

पिता वो हैं जो अपने बच्चों की ख़ुशी के लिए सबकुछ कर सकते  हैं  

एक पिता के बारे में जितना कहाँ जाए उतना कम हैं। वो सिर्फ अपने बच्चों की खातिर जीते हैं, और उनकी खातिर जान भी दे सकते हैं। पिता का हाथ जिस बच्चें के साथ हैं, उसे दुनिया की कोई ग़म छू भी नहीं सकती। जिस पिता ने हमारे लिए इतना कुछ किया, आज हमें उनका दिल से सम्मान करना चाहिए। एक पिता की ज़िम्मेदारी को सिर्फ पिता बनकर ही हम समझ सकते हैं।

पिता और बच्चें का रिश्ता जितना प्यार और विश्वास से बंधा होगा, रिश्ता भी उतना ही मजबूत होगा। आज fathers डे के दिन, हमें ये समझना चाहिए की, हमें अपने पापा का सम्मान हमेशा करना हैं, किसी एक ख़ास दिन मात्र नहीं।हम खुश हैं क्योंकि पापा हमारे लिए चिंता करते हैं। आज का दिन पिता और बच्चें के प्यार भरे रिश्ते को समर्पित हैं, आप सभी पापा को कामयाब ज़िन्दगी की और से Happy Fathers Day, की ढेरो शुभकामनायें। धन्यवाद।

Did you enjoy this article?
Signup today and receive free updates straight in your inbox. We will never share or sell your email address.
I agree to have my personal information transfered to MailChimp ( more information )

Shyam Shah

2 Comments

  1. Ekdam sahi likhe h shyam sir g.
    Pita bhagwan ke saman h .

    Happy father’s day.

  2. shyam sir kya likhtae haiin aap aaaj aapnae pita ke barae mae baata kar
    mujhae bhawwok kar diya hai thanks sir ji you are great I like your topic
    haapy fathers day

Leave a Reply to rajan sahu Cancel reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *